Poetry

मेरी माँ की अम्मा

अरे, जो रगो में लहू बहे

वो है उस नारी का जिससे

ना मैं डरूँ ना ही लड़ सकूँ,

ना मान सकूँ ना छू सकूँ।

                                                

सूरज ने एक दिन उठाया

और कहा की कविताएँ

जो मैं लिखूँ, उनकी परिभाषाएं

ही अलग, कुछ दूर बैठे

                                      

मेरे पिता ने मुस्कुराते हुए

कुछ राज़ खोले, कहा उनके

पिता का चंचल मन भीतर दौड़े।

                                      

यूँही दस साल बीते, अरे

मुझे जगाया मेरी माँ के

कैद अफसानों ने, कटे

हुए उस जरजर काव्य

                                      

ने, जो उस इतिहास की

याद दिलाता जिसका हिस्सा

मेरी माँ और उनकी अम्मा बनी।

                                      

परिभाषाएं फिरसे बदली थोड़ी,

मेरे पिता क्यों न बोले? मेरी माँ

की अम्मा के काव्य को अपने

पिता के व्याकरण के धुयें से

                                      

क्यों छुपाया? मेरी माँ के मन

के राज़ आखिर क्यों ना खोले?

विचारों के मेलों का रचनाकार

आज जा चुका, नानी दिखी तुम्हे?

                                      

मेरी माँ की अम्मा के चौके मैं

पकती पंक्तियाँ आज शांत है,

मालूम है क्यों? इंतज़ार मैं है

की घंघोर या ममता का आक्रोश

                                      

कब जगाये उन्हें, मैं भी रुका हूँ

की देख सकूँ अपनी माँ को उनकी

अम्मा को फिर से जगाने के

सिलसिले, कि वो भी बेखौफ लिखे

                                      

खून या गुस्से से चूर उस गुरूर

की कहानी कि उनकी अम्मा

तक सुने . . . और बस हँसें।

                                      

~*~

                                      

“An Awakening”

                                      

The blood that flows in my veins

is of a woman who I can neither

fear nor fight with, nor even touch.

                                      

One day . . . the sun woke me up

and, whispered revealingly, that

my writing carries a unique flavour

                                      

When shared with my father,

He laughed and laughed . . .

Smiling, he disclosed that his father’s

mischievous mind runs through me

                                      

A decade just passed like this . . .

Until one day, I was awakened

to the songs imprisoned in my mother’s heart,

a history shared both by my mother, and her mother.

                                      

Perceptions changed again

why didn’t my father say anything?

Despite knowing that my writings have a different poetic route

why did he uplift his father?

                                      

The creator of those ideas is no more today, do you see my Nani?

Her songs are latent in my mother’s heart,

waiting for that torrential motherly love that would kindle her again.

                                      

I, too, am waiting for that day, when my mother, too, can write

stories flavoured with blood and anger which even

her mother’s soul can listen and relish . . . thus awakening her again.

                                      

~written by Ashish Dwivedi and Translated by Shubham Singh

India

One Comment

  1. Pingback: List of Contents – Indian Periodical

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*