बेकिरदार

तुमने तो मुझे कहानी का अहम् किरदार बनाते बनाते बेकिरदार ही कर दिया

तुमने तो मुझे मुकम्मल बनाते बनाते अधूरी कहानी ही बना दिया

तुमने तो मुझे पाषाण समझ ठोकर में उछाल दिया

तुमने तो मुझे बीच मझधार में डूबने को छोड़  दिया

तुमने तो मुझे सपनो की दुनिया से खींचकर यथार्थ में ला पटका

तुमने तो मुझे आंसुओ के गहरे सैलाब में बहनें को छोड़ दिया

तुमने तो मुझे बेबस परिंदो की भांति फड़फड़ाने को मजबूर कर दिया

तुमने तो मुझे बर्फ की तरह संज्ञा शुन्य कर दिया

तुमने मुझे अपनी जिंदगी से बेदखल कर दिया

तुमने मुझे सुलगते अंगारो के ढेर पर जलने को छोड़ दिया

तुमने तो मेरी जिंदगी को बंजर कर दिया

तुमने तो मेरे दामन को तारतार कर दिया

तुमने तो मेरा इस्तेमाल करके मुझे दागदार

कर दिया

तुमने तो मुझे चंद लम्हो की ताबीर बना कर फिर मिटा दिया

तुमने तो मुझे अर्श से फर्श का नजारा बना दिया

तुमने तो मुझे अपने अहंकार को पुष्ट करने का जरिया बना दिया

तुमने तो मेरी गैरत को कदमो तले कुचल दिया

तुमने तो मुझे अपने शौक का सामान बना लिया

तुमने तो मुझे महकते गीत से दर्दमये शोकगीत बना दिया

तुमने तो मुझे कहानी का अहम् किरदार बनाते बनाते बेकिरदार ही कर दिया

                                                                             ~Pratima mehta

                                                                                Jaipur, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *