निर्बाध प्रेम

भादों की नदी-सी बहती ..

हृदय की प्यास है प्रेम .

भावना का उफान मात्र नहीं!

अनुभूति की सच्चाई से भरी…

पानी में नमक के एकाकार -सा …

स्वाति के बूंदों की बेकली से प्रतीक्षा

चातक का हठ है प्रेम !

विरह के बिना उपजता नहीं

यह सभी विकारों को भस्म कर देने में सक्षम

आग के समान है प्रेम !

कराहते समय में संवेदना की रेत पर

बिखर रहा है प्रेम

                                           ~Dr. Usha Rani Rao

                                                                                                                Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *