Poetry

अकेला इंसान

ज़िन्दगी कहां से कहां तक
पहुंचेगी किसे पता लगा है
कभी अपनों के बीच घमाघम में
भूलकर सबकुछ अलमस्त जीवन जीता है
मेला बिखरते देर नहीं लगती
जब समय का भूकंप
सब धराशाई कर देता है
कोई एक भाग्यशाली किसी कोने में बैठा
मूढ़मुद्रा में, अचंभित, अर्धविक्षिप्त सा
सोचने का हतास प्रयास, मेला ढूंढने का
एहसास करता कि कोई है आस पास
मृगतृष्णा सी लेकर बैठा अकेला, गुनगुनाता
“चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला
तेरा मेला पीछे छूटा राही, चल अकेला।”
ऊपर वाले का विधान किसने जाना है,
जो जानकार बनता है
वह दुनियां का सबसे अकेला इंसान है।
                                                 
~Dr. Kailash Nath Khandelwal
Agra, India

Comments are closed.