Poetry

एक वीरानी सी वीरानी है

 इस अँधेरे बंद घर में जी नही लगता मेरा अब क़फ़स की बंदिशों में जी नही लगता मेरा क्यों मिला हम को मिला मकाँ वीराने में यारब बता चीखती इस ख़ामुशी में जी नही लगता मेरा ना कोई मंज़िल नारा हें और न कोई हसरतें बेसबब इस ज़िंदगी में जी […]

August 31, 2014 · 0 comments · Poetry

Our Truth

It’s the wicked world we live in Obscured by different values we do or do not believe in. Sacrifices, patience, benevolence are just mere words Greed, avarice, cruelty rules the crust like lords of swords. Searching true selves amidst these is like passing through labyrinth That may cause confusion and […]

August 31, 2014 · 0 comments · Poetry

The Light of Solace

A dried maize cob she looked  Standing silently in the midst of green  All wrapped up in a brownish shawl.  Sadly she smiled to herself  At the thoughts of her loved one.  Yes, the loved one who shunned and  Drowned her in a sea of  Jeers, accusations, sarcasm  Yet she […]

August 31, 2014 · 3 comments · Poetry

क्या हम आज़ाद हैं …..?

अपने फ़र्ज़ से दूसरों के कर्ज़ से अपने अरमानों से दूसरों के एहसानों से क्या हम आज़ाद हैं ……? किसी के प्यार से किसी के मनुहार से किसी की नफ़रत से किसी की उल्फ़त से क्या हम आज़ाद हैं ……..? किसी के बंधन से किसी के अनमन से किसी के […]

August 24, 2014 · 0 comments · Poetry

The Rusty Sword

 As soon I ascended the chariot, I saw the dusty ways around, Enigmatic and confusing fields, Mawkish and haze in breath profound, All I had to beat the odds, My legendary shining silver sword, Waved in the dust and all clear I saw, To my ecstasy, I intensified in guffaw. […]

August 24, 2014 · 0 comments · Poetry

वो बीते लम्हे

वक़्त के दोरहों में खामखवा, हम कब यूँ गुमनाम हो गये, जिनके साथ बिताए कितने ही अनमोल पल ,उनसे हम अंजान हो गये, मुदात्तों बाद जब आखें रहगुजर होती हैं, लम्हा ठहर जाता है,पलकें नम होती हैं, यूँ फासलों में सिमटना हमें कभी गंवारा न था, फ़ितराते-मजबूरी  थी ये, हमने […]

August 24, 2014 · 1 comment · Poetry

हसरते परवाज़

ज़िंदगी की चिड़िया ने प्यार का इक गीत गाया और समय – संसार ने पंख उसके नोंच डाले ज़िंदगी की चिड़िया ने फिर दर्द का इक गीत  गाया और समय – संसार ने वो स्वर बड़े ही प्यार से और एहतियात से सहेज लिए मैंने ये सब देखा ,समझा ,और […]

August 24, 2014 · 1 comment · Poetry

Independence Day

In independent India After 67 years of liberty, Even today there are hundreds Who are discriminated in society. After the fundamental rights were recognized Granting every citizen of the country Right to Equality, Religion-based coercion and violation Are still major threats to the minority. All our great politicians and socialites […]

August 17, 2014 · 0 comments · Poetry

You Are My Baby Boy

Remember the good old days we spent My babe in arms so cute and content Your pretty face delighted all Those who saw you squealed and called You a pretty child and pulled Your chubby cheeks so pink and full I fought with them for doing that Because it made […]

August 17, 2014 · 1 comment · Poetry

हम तो दीवाने हैं

हम तो दीवाने हैं, अपनी मौत मर जाएंगे, नदी के पानी की तरह ख़ुद-ब-ख़ुद गुज़र जाएंगे, जो आएगा कोई और कभी इस रस्ते, क़त्ल का दस्तूर ना रखे वो ज़माने का, बस इतने निशाँ छोड़ जाएंगे Translation We are a lovers lot, Would die on our own, without being thought, […]

August 17, 2014 · 0 comments · Poetry