Poetry

The Flight

Out of Blue He flew Down, into my terrain, Not like bird, but Like an aero plane Promising to take me away Far, far, away Beyond distant horizon Towards heaven’s gateway. Swept me off my feet A rare exotic treat Sheer bliss I closed my eyes Still saw fluttering fireflies […]

January 18, 2015 · 0 comments · Poetry

जाने – जानाँ

मैं  मुब्तिला  हूँ  एक  खामोशियों  के  जंगल  में सिर्फ  दो  लफ़्ज़  तू  ही   बोल  ऐ  जाने – जानाँ  टूटती  हैं  रगें  दिल  की ,ज़रा  आवाज़  तो  दे मार  डाले   न   कहीं   ये   ग़मे – हिज्राँ   जानाँ तू  मेरे  पास  नहीं , होता  भी  तो  क्या  होता तूने  मुझको  कभी  अपना  […]

January 11, 2015 · 0 comments · Poetry

Hunger

There he was Sitting outside the temple With his dog Looking at people passing by Caught in the race of life With not a moment to spare He looked on and searched For a face to gaze upon him And eyes to smile And lips to say a few kind […]

January 4, 2015 · 0 comments · Poetry

That is the Question

To be or not to be Yes To be or not to be Since teenage  Heard these lines Mulled over them Many many times When, at last, The meaning sinks in It’s end of Journey with links in Phases you wonder The joy, the trust, and The total surrender Then […]

January 4, 2015 · 0 comments · Poetry

इम्कान

वो तो ऐसा न था,वो बदल  सा गया मेरी क़िस्मत को किसकी नज़र लग जयी मैंने खुशियाँ सभी से छुपा रखी थीं ग़म के लश्कर को कैसे खबर लग गयी हम संभाले रहे दिल को हर गाम पर चोट  गहरी ये  देखो, मगर, लग  गयी आओ देखें  धुआँ सा कहाँ […]

December 28, 2014 · 0 comments · Poetry

Sorrow Of the Soul

Screaming innocence,  Weeping motherhood Barking barbarians,  Dying humanity Oh Lord! Break your silence Demolish the pyramid of blind faith Destruct the world with gigantic waves Let the sun rays never touch on the earth Moonlit night,  dazzling stars Roaring waves, blasting sound Pale eyes, Colorless dreams Oh Lord! Let’s finish […]

December 28, 2014 · 1 comment · Poetry

उदास  मंज़र

दूर तक उड़ती हुई धूल नज़र आती है क्या कोई कारवां गुज़रा मेरे वीराने से पी के कुछ और न बढ़ जाये  तिश्नगी दिल की अश्क़ छलके  मेरी तक़दीर के पैमाने से अजनबी भीड़ ने बरसाए जब पत्थर मुझ पर मुझको चेहरे नज़र आये हैं कुछ पहचाने से हमने घबरा […]

December 21, 2014 · 2 comments · Poetry

The Silent Killer

Sometimes Love kills Oh, sure it does Just like  Snipers The hidden foes With hatred One could cope By restraining The hope But Love! An unrequited Love! With  invisible  fire And Burning desire, Mars  the  will (to live) And Goes out and out To kill.           […]

December 14, 2014 · 0 comments · Poetry

सबा

आज भी तेरी महक़ ले के चली आती  है कभी खिड़की, कभी दरवाज़ा खटखटाती है कभी तेज़ी से गुज़रती है बजाती सीटी मेरी दुश्मन है सबा, किस क़दर सताती है मैं तुझे भूलना चाहूँ भी तो ना भूल सकूँ तेरे घर से तेरा अहसास लिए आती है तूने जो गीत […]

December 7, 2014 · 0 comments · Poetry

एक ज्वलंत प्रश्न

राम ! जब तुम्हें निर्दोष होते हुए भी बनवास मिला था तब तमाम सुख -ऐश्वर्य को छोड़ कर मै वन गई थी तुम्हारे साथ  !  आज राजा राम ने मुझे पूरी तरह निर्दोष जानते हुए भी पुष्प सा पवित्र मानते हुए भी बनवास दिया  है राजाज्ञा शिरोधार्य  ! परन्तु मै […]

November 30, 2014 · 0 comments · Poetry