फर्क

तुम रात की स्याही की तरह

मेरी जिंदगी में घुसपैठ कर गए

अब मुझे अँधेरों में रहने की आदत सी हो गई है

झूठ के पर्दे के पीछे रहते-रहते

सच की चमक अब बर्दाश्त नही होती

काश तुम से कभी मुलाकात न हुई होती

पर फिर  सोचती हूँ सच और झूठ,

रोशनी और अँधेरे में फर्क कैसे पता लगता?

                                                           ~ Punam Sharma

                                                           India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *