पथिक

मिले मुसाफिर अनेक हमें इस ज़िदगी की राह पर
कुछ अपने, कुछ पराए-
राही वो भी थे और हम भी लेकिन राह एक ही थी–‘ज़िदगी’
सोचा चलो अच्छा है नहि हैं हम अकेले
हैं पथिक और भी मेरे साथ
तो समभल जाऐगी ये ज़िदगी आसानी से
कुछ बड़ो की छत्र-छाया में और कुछ छोटों की मौज-मस्ति के सहारे
जो अपनी प्यारी सी मुस्कान,मासुमियत और मधुर वाणी से-
खीच लेते हैं हमें पीड़ा भरी मझधार में से और-
सींच देते हैं खुशियो की बौछार से हमारी बेबसी को भी-
ये नन्ने-मुन्ने भोले-भाले राही!
लेकिन छीन लेते हैं हम ही अबोधता इनकी
बो देते हैं नफरत का बीज सीने में इनके
खड़ी कर देते हैं दीवार अपने रिश्तो में
चलते हैं हम फिर अकेले रास्ता टटोलते हुए-
बड़ो का छूटा आधार, चले गऐ वे अन्नत यात्रा पर
रह गऐ अब असमर्थिक हम इस अधुरी ज़िदगी की राह पर
छूटा अब संग सभी छोटे-बड़ो का-
असाहये पथिक हैं हम अब इस अमावसी ज़िदगी मे
आँखे हैं अब कमज़ोर, धुंधलापन फैला चारो ओर
काटे न कटे समय इस एकांत, विरानी उमर/ ज़िदगी मे!
छोटे अब हो गऐ बड़े-व्यस्त हो गऐ अपने काम काज में
उड़ गऐ पंछी जैसे-
कुछ सही, कुछ गलत राह पर!
प्राथना ही अब है सहारा हमारा
जपो जाप ईश्वर की-
कुछ अपने लिए, कुछ उनके लिए
पथिक- आश्रम है ये ज़िदगी
मैहमान हैं हम कुछ दिनो के इस घरती मॉं के-
(ये तो हैं पूरे जगत की मॉं)
जो छोड़ती नहिं हमें कभी भी अकेले-
आशीर्वाद हमे इनका अवश्य लेना है-
ज़िदगी को अलविदा कहने से पहले।

     A Traveller

Across many known and unknown travellers I came-

In this life’s journey-

Each one of us traveling the same road of—‘Life’

I thought it’s good I’m not alone, there are other travellers too

I mused life, with the blessings of the elders would be easy and-

Blissful with the children whose innocent pranks-

Heave us out of the quagmire of misery and

When submerged in haplessness we are-

They with their tomfoolery brighten it up

But their virtuousness we snatch away –

Sowing the seeds of hatred in their heart

A wall of irrationality in relationship we erect!

We then groping in the dark travel ahead all alone

The elders having left for their long infinite journey!

Surrounded with old age helplessness we plod along

As weakness and poor sight grip us!

The children have grown up just as we have-

No time for us they now have-

Like birds they have soared away-

Some onto the path of righteousness

While some onto the erroneous path

Prayers are now the only hope for us and them

A temporary habitat for us, the travellers, this life is!

We are the guests of Mother Earth-

(The ‘Mother’ of the entire universe)

Never ever does she forsake us –

The blessings of our dear ‘Mother of the Universe’

We must take-

Before saying good bye to our life!

                                                                                           ~Anuradha .S.Bannore

                                                                                               Vadodara, India

2 Comments

  1. Jaishree Misra says:

    A very realistic and eloquently described picture of life ! Ms Bannore’s work often depicts the life of the alienated and the isolated modern urban people in very ways .

  2. life, we all know as ms bannore poetically states is a mixture of ups and downs and no one is spared from its pangs
    modern concept of nuclear family has made it only more poignant until finally ‘from dust we come and to dust we must return’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *