आज कलमकार मरा है

आज शहर शांत है ,

क्योंकि वो मौन है ,

उसके मौन होते ही ,

शहर चोककनी हो जाती है ।

उसे पता है ,

जब वो मौन होता है ,

तो कितनों की कलाई,

 खुलने से बच जाती है ,

आज शहर शांत है।

क्योंकि किसी की

आज कोई खबर ही नहीं है ।

शहर के चौराहें पर ,

एक कलमकार टगा मिला है,

 उसके जाने की खबर

भी आज खबर नहीं है ।

किसी कलमकार के कलम में,

 इतनी हिम्मती नहीं की

लिखे अपनी ,

सहोदर की जाने की खबर

क्योंकि उसकी आस भी,

 संपादक बनने की है।

कही मालिक इस ,

खबर पर नाराज न हो जाए ।

आज शहर शांत है

क्योंकि आज कलमकार मरा है ।

उसकी दोष इतनी है

उसने लिखा है ,

उनके खिलाफ ।

जिनकी आँखे

उनके लेखनी से ,

खुजलाने लगती है।

आज शहर शांत है ,

क्योंकि कलमकार की

कलम गोलियों के हवाले है ।

जब कलम गोलियों के ,

हवाले कर दी जाती है

सत्ता भी साथ आजाती है

इस लिए भी आज कोई खबर नहीं है ।

आज कलमकार मरा है ,

विपक्ष भी मौन है ।

क्योंकि पत्रकार का मरना ,

उनके लिए खबर ही नहीं है ।

आज शहर शांत है,

 क्योंकि पत्रकार मरा नहीं

मारा गया है

~

Today the city is quiet,

Because he is silent,

As soon as he was silent,

The city becomes alert.

he knows,

When he is silent,

So many wrists,

Remain unopened,

Today the city is calm.

Because of someone

There is no news today.

At the crossroads of the city,

A penman has been found,

News of his demise

is no news today.

the pen of a penman,

Not so strong today,

To Write his,

Brother’s death

 Because he hopes,

Become an editor someday.

The owner,

May get annoyed

at the news.

Today the city is quiet

Because the penman is dead today.

His fault was

he has written,

Against them

Whose eyes

From his writings,

seems itchy.

Today the city is quiet,

Because the penmen’s pen

is riddled with bullets.

When pen,

Is left to bullets,

Power gets along too

That’s why there is no news today.

Today the penman is dead,

The opposition is also silent.

Because the death of the journalist,

is no news for them.

Today the city is quiet,

Because the journalist is not dead

                                  Has been killed.

                                                                                                                             ~Harshit Kumar                                  

                                                                                                  Noida, India   

One Comment

  1. बहुत ही सुदंर अभिव्यक्ति है.. आपकी… आप लिखते रहे… बढ़ते रहे… यूँही मुस्कराहट बिखेरते रहे…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *