फ़रिश्ता

बहुत  सी  ग़लतियाँ  करके  भी  हम  सलामत  हैं

फ़लक  पे  दूर   हमारा  भी   निगहबान   है  कोई

कभी  ऐसा  भी  होता  है  कि  हिम्मत  पस्त  हो जाये

तभी  वो   हौसला   देता   है,  मेहरबान   है   कोई

कभी  घबरा  के  जब   कहते   हैं  हम   मर  जायेंगे

वही  जीना  सिखाता   है,  वो  राज़दान  है   कोई

चले  जाना  ही  है  इंसान  को  इक  दिन  यहाँ  से  तो

रहे  दुनिया  में  आकर  इस  तरह, मेहमान  है  कोई

नहीं  देखा  है  आँखों  से, दिली  अहसास  है  लेकिन

हिफाज़त  को  हमारी  हर  समय  भगवान  है  कोई

The  Guardian  Angel

Despite  making  many  mistakes  I  am  very   safe

Up  above, far  away, there’s  someone  vigilant

It  so  happens  sometimes  we  get  disheartened

Gives  us  courage, there’s  someone  benevolent

Too  depressed, at  time ,if  we  contemplate  death

Teaches  how  to  live,  someone’s  know-all  confidante

Every  person  has  to  leave  this  world  one  day

So   we   should   stay  here   as   mere   visitant

Haven’t  seen  with  open  eyes, yet  we  can  perceive

Simply  for   our   well  being,  God  is  omnipresent

                                                                                       ~Sudha Dixit

                                                                                      Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *