सुना है

सुना  है  लोगों  से  हमने  कि वो  दिल  दरिया  है

मेरे  लिये  तो  उसमें  एक  बूँद  भर  पानी  भी  नहीं

सुना   है  आबशारों   से   मुक़ाबिल  होता  है

अब  तो  लेकिन  वहाँ  दरिया  सी  रवानी  भी  नहीं

सुना   है   उसने   कभी   प्यार  किया   था   हमसे

कहने  सुनने  को  मगर  अब  वो  कहानी  भी  नहीं

दास्ताँ  बन   गयी  शिद्दत   मेरी   मुहब्बत   की

एक  भी  लफ्ज़   मगर  उसकी  ज़ुबानी  ही  नहीं

सुना   है   मेरे   आँसुओं   से   उसे   नफरत  है

मेरे  लिए  पास  उसके    एक   शाम  सुहानी  भी  नहीं

ग़म -ऐ –हयात  के   क़िस्से   उसे   पसन्द   नहीं

तो   अज़ीयतों   की   दास्तान   सुनानी   भी   नहीं

मौसमें – गुल  ख़िज़ां  की  ज़द  में  आ  गया  हमदम

अब  तो  बिगड़ी  हुई  वो  बात  बनानी  भी  नहीं

Hearsay

Heard, that  he  keeps  ocean  in  his  heart

For  me  even  a  drop  of  water  is  not  there

Heard, that  he  competes  with  cataracts

But, now, even  the  flow  of  river  is  not  there

Heard, that  he  was  in  love  with  me  once

To  recount , even  that  story  is  not  there

Intensity  of  my  love  has  become  a  legend

But  a  single  word  from  his  side  is  not  there

Heard, that  he  detests   my  tears

Still, a  gift  of  pleasant  evening  is  not  there

Tales  of  life’s  woes   are  anathema  to  him

Any  chance  of  telling  of   my  sorrows  is  not  there

Season  of  blooms  is  in  the  grip  Autumn, comrade ,

Expiation  for  things  gone  wrong  is  not  there

                                                                                     ~Sudha Dixit

                                                                                     Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *