तुम्हे हमने बनाया

ये  तमकनत !

महज़  अपने  ख़ुदा  होने  पर

ना  भूल  ये  कि

संगतराश  मैं  ही  हूँ

तेरे वजूद  का

दार-ओ-मदार मैं  ही हूँ

वो हथौड़ी की, और  छेनी  की

चोट तूने  ही  नहीं,

हमने भी खाई  है सनम

हमने  ही  तुझको  दिया  है

ये  ख़ुदाई  का  भरम

देवता  तुझको   बनाया

मेरी  इनायत  ने

अर्श  पे  तुझको  बिठाया

मेरी   इबादत  ने

तू  आसमां  पे रहे

या  ना  रहे

ये  फ़ैसला  जिसे  करना  है

फ़क़त  मैं  ही  हूँ

सुधा

I  Made  You

So  much  ego

 Just  because  you’re  God

Don’t  forget  whoever

Sculpted  you,  is  me

Your  existence  is

Because  of  me

Not  you  alone,

I  am also  hurt

By  that  chisel

And  hammer

That  shaped  you

In  god like

Glamour

The  one,  who  gave  you

This  illusion  of

Supremacy,  is  me

Your  godliness  is

My  creation

You’re  on  pedestal

Due  to  my  devotion

How  long

You  may  remain  there

Will  be  decided

Only  by  me

                                   ~Sudha Dixit

                                      Bangalore, India

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *