क्या क्या ना कहूँ

मेरा  मन  है,  मेरी  जाँ  आज  तुम्हें  जान  कहूँ

बहारें  लाये  हो  तुम,  खुशियों  का  उन्वान  कहूं

समझ  ना  पाये  तुम  शिद्दत  मेरी  मुहब्ब्त  की

प्यार  से  तुमको  मैं  आशिक़  दिल-ऐ-नादान  कहूं

दर्द  के  फूल  उगाती  हूँ  मैं  धरती  की  तरह

अश्क़ों  से  सींचते  हो, तुमको  आसमान  कहूं

सुना  है  तुमने  ही  दुनिया  उजाड़  दी  मेरी

मैं  ही  पागल  हूँ कि  अब  भी  तुम्हें  जहान  कहूं

अब  तो  यादों  के  सिवा  कुछ  भी  नहीं  पास  मेरे

थोड़ा  सा  दर्द, कुछ  आँसूं  है  जिन्हें  ऐश  का  सामान  कहूं

Translation

What  do  I  call  you  dear

Want  to  proclaim  you,  my  life, my dear

Brought  in  happy  spell, you’re  harbinger  of  cheer

Never  could  you  fathom  the  intensity  of  my  love

Should  I  call  you, fondly, a  puerile  lover

Akin  to  Earth, I  grow, blooms  of  pain  and  woe

You  sprinkle  them  with  tears,  should  I  call you Air

Heard  that  only  you  have  destroyed  my  empire

I  am  crazy  that  I  still  call  you  my  sphere

Now  there  is  nothing  left   except  the  memories

To  call  my  treasure  I  have  some  pain  and  a few  tears

                                                          ~Sudha Dixit

                                                               Bangalore, India

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *