नहीं दिखता

एक  बादल  घना  मँडरा  रहा  है  इर्द  गिर्द

धूप  आने  का  कोई  रास्ता  नहीं  दिखता

मेरी   अफ़सुर्दगी  पे   ऐतराज़   है   उसको

पर  मेरा  ज़र्फ़, मेरा  हौसला  नहीं  दिखता

एक   आभास    है,  डर   है, कोई   अंदेशा  है

साया  है, अक्स  है, चेहरा  मगर  नहीं  दिखता

कितने  इलज़ाम, कितनी  तोहमतें  अता  की हैं

हमने  क्या क्या किया उसके लिए, नहीं दिखता

एक  क़तरा   भी   मेरी  आँख  से नहीं  टपका

है  तलातुम  कगार  पर  ठहरा,  नहीं  दिखता

   Invisible

A dense black cloud is hovering around

Way  for the sun to shine is not visible

He  my  has  objection to my grief, but

My grit, my courage  divine is not visible

A sense of déjà vu, fear, apprehension  I  feel

A shadow, a reflection, but a face to define is not visible

Innumerable blames and aspersions were cast on me

What I did for him, of that  any  sign, is not visible

Not  a  single  tear  dropped  from  my  eyes

The storm brewing on the brim- line is not visible

                                                                   ~Sudha Dixit

                                                                 Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *