परित्याग

उम्मीद   भी  इक  उम्र   की  हद  से  गुज़र  गयी

लो  छोड़  दिया  हमने  दामाने – ख़याल -ए -यार

फूलों   में   रंग   है,  ना   फ़िज़ा   में   उमंग   है

सब  ताम-झाम  ले  के  अब  जाने  को  है बहार

वो  हमसफ़र  जो  हैं  मेरे  हमदम  ना  बन  सके

फिर  क्यों  मेरी  हयात  पे  हो उनका  इख़्तियार

हक़  है  हमारा , हम   भी  जियें  अपने  ढंग  से

तो  बंद   हमने  कर  दिया  रस्मों  का  कारोबार

तन्हा   हर   एक    बोझ    उठाया     आजतक

 वो    कैसे   बन   गये   बराबरी   के    दावेदार

Relinquish

Even  hope  has  crossed  the  limit  of  an  age

So   all  thoughts   of   my   love,  I’ve   forsaken

Flowers’ve  lost  colours, nature  has  no  verve

With  paraphernalia,see, departing festive season

Co-passsenger  who couldn’t  become  a  partner

Why should  have a claim  on my  life for no reason

I,  too, have   right   to   live   in   my   own   style

Hence, I’ve  abandoned  the business of tradition

Each  and  every  burden I  endured   till   today

Then how  he  could  be  party  to equal contention

                                                                         ~Sudha Dixit

                                                                               Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *