देख रहे हैं

आज  फ़ुरसत  से  हैं  चिलमन  से  लगे  बैठे  हैं

ख़ुनक   भरी  ये  ज़माने  की  हवा  देख  रहे  हैं

हमें  भी  आज  काम  आ  पड़ा  है  कुछ  उनसे

सराब   जैसी,  दोस्तों   की,  वफ़ा   देख  रहे  हैं

यूँ   ही  बेसाख्ता  हँस  कर  पता  चलेगा   हमें

कौन  हैं वो जो  मेरा  दर्द-ए-निहाँ  देख  रहे  हैं

आज़माईश    के   बहाने   ही   सही  हम  उनका

बदला  बदला  हुआ अंदाज़-ए-वफ़ा  देख  रहे  हैं

गरज़  कि  जी  चुके  बेलौस  ज़िंदगी  हम, अब

वक़्त-ए-रुखसत  का  नज़ारा है, समाँ  देख रहे हैं

Watching  how  it  goes

Today  I am  free  sitting  by  the  window

I look outside  which  way  the  wind  blows

I  need,  this  time, a  favour  from  them

See  how  their loyalty, like a mirage goes

If  I  laugh  out  loud, I’ll  then  find  out

Who  are  friends, who can see my hidden woes

Simply  on  the  pretence  of  a  trial, I  discern

How  their  changed  demeanour of  parlance  flows

Lived  an  exuberant  life, now  is  time  to  go

Watching  the  panorama  of  life’s  highs and  lows

                                                                                  ~Sudha Dixit

                                                                                         Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *