गीत तो गा लूँ

गीत  तो  गा  लूँ  मगर  स्वर  सो  गये  हैं

सो  गये   हैं  वादियों   में

सो  गये  तरु-झुरमुटों  में

पल्लवों  से  लिपट  सोये

सांध्य अरुणिम  झुटपुटों  में

खोल   दूँ   अनुभूति   अक्षर   खो  गये  हैं

गीत  तो गा  लूँ  मगर  स्वर  सो  गये  हैं

खो  गये   हैं  निर्झरों  में

खिलखिलाती  उर्मियों में

खो   गये   मधुवात   में

विधु की नवीना  रश्मियों में

अनमिले  अनजान  परिचय  हो  गये  हैं

गीत  तो गा लूँ  मगर  स्वर  सो गये हैं

मिल  गये  परिचय धरिणी के

रजतमय   नीले   गगन   के

जान   सब   मैंने   लिये   हैं

भेद   कोलाहल   विजन   के

बोल  सुधियों   के  अबोले  हो  गये  हैं

गीत  तो गा लूँ  मगर  स्वर  सो गये हैं

I  may  sing  a  song

I  may sing  a  song  but  melody’s  gone  to  sleep

Dozed  off  in  vales

Dozed  in  the  thickets  of  boughs

Slept  embracing   leafage

In  twilight’s  reddish  hues

I  may  reveal  emotions but, I ‘ve  lost the  words  deep

I  may sing  a  song  but  melody’s  gone  to  sleep

Got  lost  in  cascades

Lost  in  laughing   sun  beams

Lost  in  the  Spring  breeze

Lost  in  moon’s  shining  gleams

Unmet, unknown  acquaintance  may  peep

I  may sing  a  song  but  melody’s  gone  to  sleep

Came  to  recognize  the  earth

And  the  silvery   blue  sky

I  have  known  today

Secret  of  solitude  and  outcry

Voice  of  conscience  has  been  muted  steep

I  may sing  a  song  but  melody’s  gone  to  sleep

                                                                                ~Sudha Dixit

                                                                                   Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *