क्यों नहीं होता

चलो  समझा  लिया  है  हमने

अब   ये   दिल   नहीं   रोता

लेकिन    तुम्हारा    इंतज़ार

ख़त्म   क्यों    नहीं    होता

उठा   कर   एक   कोने    में

तुम्हारी   याद   रख   दी   है

ख़लिश   फिर   भी   वहीँ   है

दर्द  ये  कम  क्यों  नहीं  होता ,

अब  ऐसा  भी  नहीं, आदत

तुम्हे   हो   बेनियाज़ी   की

 सभी    से    है,   हमी    से

राह-ओ-रस्म  क्यों  नहीं होता

सुना   है  मोजज़े   होते   ही

रहते    हैं    मुहब्बत    में

हमारे    वास्ते         ऐसा

तिलिस्म   क्यों  नहीं  होता

चाह  कर   भी  कई   मंज़र

भुलाये   जा   नहीं   सकते

तड़पता   है   मेरा   दिल, पर

तुम्हें   ग़म   क्यों   नहीं   होता

Why  this  doesn’t  Arise

Okay, I   have   mollified  it

Now  my  heart  doesn’t  cry

But, perpetual  wait for  you

Why   doesn’t   die

I’ve   gathered   and  stored

Your  memories in an alcove

Bruises  are  there  still  why

Can’t  I  this  pain  nullify

It’s   not   that   you   are

Reticent   by   nature

Intimate  with  all  else,  why

Don’t   you  with  me  comply

Miracles  keep  happening

In   love,  I   have   heard

Why  not  this  magic-theory

For   me   ever   apply

Some  moments  can never

Be   forgotten   willfully

My  heart  is in distress, why

Don’t  you  have  a  teary  eye

                                ~Sudha Dixit

                                   Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *