आज हमने

आज   हमने   तूलिका   से   स्वप्न   की

दर्द  के  रंग  में  हृदय  को  रंग  लिया  है

       सान्ध्य  के  आकाश  पर  रंगीन  बादल

       और   क्रमशः  सृष्टि  पर   छाता  अँधेरा

       ज्यों  किसी  के  जलभरे  आरक्त  दृग  से

       बह  गया  पिछले  प्रहर  का  क्षुधित  काजल

इसलिए   विश्वास   की   पतवार  ले   कर

तिमिर  का  तलहीन  सागर  चुन  लिया  है

आज    हमने   तूलिका    से   स्वप्न    की

दर्द   के  रंग  में   हृदय   को  रंग  लिया  है

      क्यों  खड़े  स्तब्ध  तरुओं  को  निहारूँ

    क्यों  बुलाऊँ   नीड़  में  सोयी  पिका  को

    व्यर्थ   है  मन  के  अँधेरों  को  मिटाने

    फिर  किसी  उम्मीद  के  रवि  को  पुकारूँ

            आज   तो   मन   स्वरों  पर   ज़िंदगी    के

             गीत  का  अंतिम  चरण   भी  सुन  लिया  है

             आज    हमने   तूलिका   से   स्वप्न    की

             दर्द  के  रंग   में  हृदय  को   रंग  लिया  है

Today  I’ve

Using  a  brush  of  dream,  today

I’ve  painted  my  heart  in  the  colour  of  pain

      Vivid  clouds  on  evening  sky

      World  getting  dark  gradually

      Just  like  last  night’s  kohl

      Streaming  down  from  teary-red  eyes

So, grabbing  the  oars  of  conviction

I’ve  chosen  dark fathomless  ocean

Using  a  brush  of  dream,  today

I’ve  painted  my  heart  in  the  colour  of  pain

      Why  to  stare  at  stand – still  trees

      Why to wake up the sleeping nightingale

      To efface the blackness  from my heart

      Why to call out the sun of hope in vain

So, on the chord of my core,I have

Heard  my  life-song’s  last  refrain

Using  a  brush  of  dream,  today

I’ve painted my heart in the colour of pain

                                                                     ~Sudha Dixit

                                                                       Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *