बदलाव

जिसे देखा, जिसे चाहा, जिसे  पूजा था कभी

सामने आज, पर, मेरे ये वो चेहरा तो नहीं है

पास   उसने   कई   चेहरे   छुपा  के  रखे  हैं

बेवफ़ाई  का  रंग  और  भी गहरा तो नहीं है

क्या हुआ  था जो वो ऐसे बदल  गया याराँ

चाहतों पर कहीं कोई यहाँ पहरा तो नहीं है

हम  समंदर  न  जाने क्यों उसे समझ  बैठे

तिश्नगी सोचती है वो कहीं सहरा तो नहीं है

अब्र   है, आबशार   है, कि  वो   है  बंजारा

किसी मुक़ाम पे वो आजतक ठहरा तो नहीं है

The  change

The  one  I’d  seen, loved  and  worshiped, once,

It’s  not  the  same  face  any  more

Seems  that  the  colour  of  betrayal  is  deeper

Than  the  many  hidden  masks  he  wore

What  had  happened  to  change  him  so,

Is  there  restriction  on  loving  someone  and adore

How  could  I  think  he  is  as  deep  as  sea

My  thirst  suspects  he  is  a  desert  to  the  core

Is  he  a  cloud, a  cascade  or  a  nomad

Never  stays  at  same  place  he  was  seen  before

                                                                                           Sudha Dixit

                                                                                           ~Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *