तुम आओ तो

खुनक  हैं  हवाएँ , घिरी  हैं  घटायें

तुम  आओ  तो  जश्न-ए-बहाराँ  करें

घने  हो  चले  हैं  अंधेरों   के  साये

तुम  आओ  तो  बज़्म-ए-चिरागां  करें

तुम्हारे  बिना  रंग  बेरंग  है  सब

तुम  ही  बोलो  कैसे   गुज़ारा  करें

तुम्हें  ढूंढती  हैं  भटकती   निगाहें

तुम्हारे  बिना  क्या  नज़ारा  करें

है  तन्हाइयों  का  सफ़र  तुम  जो  आओ

तो  गुलज़ार  फिर  से  बयाबाँ   करें

वो  लम्हे  जो   यादों  की  परतों  में  गुम  हैं

उन्हें    आओ    रौशन     दोबारा     करें

जिन  आँखों   में  हरदम   रहे  चाँद – तारे

ये     ज़ुल्मात     कैसे    गवारा    करें

Only  if  you  come

Breeze  is  sprighty, and  clouds  hovering

Rejoice  the  spring,  if   only   you  come

Shadows  of  darkness  slowly  converging

Will’ve  festival  of  light  if  only  you  come

Minus   you,   all   colours   are  fading

Life  can’t   function   unless  you  come

Searching  for  you  my  eyes  are  wandering

Nothing   to  view  here  until  you  come

It’s  been   a  lonely  journey,  but   I’ll

Enliven  the  wilds, again,  if  only  you  come

Moments  obscured  in  the  layers  of  memories,

Will   brighten, once  again, if   only   you   come

Eyes   were  starry  and  full   of   shine

Have  to  suffer  darkness,  until   you   come

                                                       ~Sudha Dixit

                                                        Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *