सफ़र

हमेशा दूसरों की नज़रो से देखा किये खुद को

कभी अपने लिए जीने की कोशिश भी ना कर पाये

ये कितनी मीलों लम्बा रास्ता तय कर लिया हमने

 रहे बस कारवाँ  के  साथ, खुद से मिल भी ना पाये

महज़ चलना ही मक़सद था कोई मंज़िल नहीं ढूंढी

सफ़र की शाम है तन्हा ना सूरज है ना हमसाये

हर इक रस्ते में  बोए  ख्वाब ही, गुज़रे जहाँ से हम

कि  उसको तो मिले साया, हमारे बाद जो आये

दुआओं, ख्वाहिशों,अहसास, ख्वाबों की फ़सल बो कर,

लगा, शायद यही इक शै, वजह जीने की बन जाये

ठिकाना ढूंढ लें, खानाबदोशी छोड़  दें  कैसे

हमें चलना है जब तक पाँव में छाले ना पड़  जायें

चलो जो हो गया सो हो गया आगे की अब सोचें

कमसकम आज तो जी लें कि कल आये या ना आये

Journey

Always  judged  myself  from  others’ point  of  view

Couldn’t  ever  tried  to  live  my  own  way

How  many  miles  have  I  walked  till  now

Kept  up  with  the  caravan, from  self  remained  away

Moving on  was  the  aim, never  the  destination

Twilight  of  journey’s  lonesome minus  shadow , minus sun’s ray

Planted  only  dreams, whichever  way  I  passed,

So that those, who  followed me, get  some  shade  this  way

Thought  that  sowing  the  crop of longings, feelings, wishes and  dreams

May  give  a  reason  to  live  life  another  day

How  can  I find  a stop and  forgo  my  wanderlust

I  must keep  moving, till  my  feet  get  sore  and  fray

Anyway  whatever’s  happened  has  happened

Tomorrow  may or may not come, let  me live my  life  today

                                                                                                                   ~Sudha Dixit

                                                                                                                        Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *