परी हूँ मैं

भटक  रही  हूँ  सदियों  से

प्यार  के  सहरा  में

रोक  के  उम्र – ए – रवाँ  को

हरी भरी  हूँ मैं

परी  हूँ  मैं

तुम  तो  हर  बार  नया

जन्म  ले के  आते  हो

लेकिन  वो  कल  और  आज  की

कड़ी  हूँ  मैं

परी  हूँ  मैं

वक़्त  छू  कर

गुज़र  गया  है  मुझे

रुकी  हुई  सी  बस  इक

समय  की    घड़ी  हूँ  मैं

परी  हूँ  मैं

तुमने  कितने

बदल  लिए  रस्ते

पर  उसी  मोड़  पर

खड़ी  हूँ  मैं

परी  हूँ  मैं

फिर  एक  अवतार

ले  के  आये  हो

तुम  तो  कमसिन  हो

और  बड़ी  हूँ  मैं

परी  हूँ  मैं

तुम  हो  खुशबू

नई  बहारों  की

सिर्फ  यादों  की एक

सदी  हूँ  मैं

परी  हूँ  मैं

I  am  the  sprite

For  ages, wandering

In  the  wilderness  of  love

Arresting  the  flow  of  time  and  age

Sill  young  and  bright

I  am  the  sprite

Every  time  you  come  in  the  world

In  a  new  form

But  between  yesterday  and  today

I  am  the  link  tight

I am  the  sprite

Time  has  touched  me

And  gone  away

I  am  the  static

Time’s  respite

I  am  the  sprite

You  have  changed

 So  many  avenues

I  am  still  on  that  bend  and

On  the  same  site

I  am  the  sprite

You’re  here  again,

In  another  incarnation

So  young  and  spry

I  am  elder  Aphrodite

I  am  the  sprite

You  are  the  fragrance

Of  new  season

I  am  a  century  only

Of  memories  blithe

I  am  the  sprite

                             ~Sudha Dixit

                                     Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *