टूटे सपने

अपनी खता नहीं कि हम मंज़िल से दूर हैं

कुछ फ़र्ज़, कुछ लिहाज़ से ही मात खा गए

लम्हें  में सभी  दोस्तों के रुख़ बदल  गए

जीती  हुई  वो  बाज़ी, हम  हार  जो  गए

अब  धूप  ढल  गयी  औ’  अँधेरे  हैं सामने

धुंधली सी रौशनी है कि  जलते हैं कुछ दिए

इन  नीम  अंधेरों की  भी  हो जाएगी  आदत

जीना तो है किसी तरह, जब तक भी हम जियें

चुभते  हैं  किर्च  किर्च  टूटे  हुए  वो  ख्वाब

आँखों में खुद- ब – खुद ही आबशार आ गए

Shattered Dreams

Not  my  fault  I’m  far  from  destination

Lost  out  due  to some  duties and  compassion

Instantly all the friends  had a  volte – face

Moment  my  conquest  became  deprivation

Now  sun  has  set, there’s  darkness  ahead

Still  as  some  lamps  burn, there’s dim  illumination

I  would  get  acclimatized  to  such  gloom

For  I  have  to  live  life in  every  situation

Eyes  are  welled  up with  cascading  tears

Hurt  by  shards  of  broken  dreamy  vision

                                                     ~Sudha Dixit

                                                    Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *