कोई वीरानी सी वीरानी है

सामने  दश्त  है, ग़ुबार  है, वीरानी  है

मुड़ के देखूं तो आँखों में सिर्फ़ पानी है

खो गए वक़्त की परतों में सुनहरे लम्हे

अब तो तारीकियों में घिर रही कहानी है

कोई उम्मीद,कुछ सूरत नज़र नहीं आती

दास्ताँ  ज़िंदगी  की  मौत  की ज़ुबानी  है

तेरा मिलना तो यक़ीनन ही एक मोजज़ा था

लेकिन  हक़ीक़त  सिर्फ  बदगुमानी  है

मेरी यादों के दरीचों से झांकती है बहार

मेरे जज़्बों के समंदर में क्यों तुग़यानी है

A  Desolate  Desolation

Facing   me  is  a desert, dust  and  desolation

And  if I look  back  there’re  only  tears  in  my eyes

Golden  moments  are  lost  in  the  strata  of  time

Now, enclosed  in  the  darkness, the  story  lies

 There’s  neither  hope  nor  any  solution  visible

Saga  of  life is what the  voice  of  death  surmise

Tryst  with  you  was, definitely, a  miracle

But  realities  are  mere  quandaries

Through  my  memories’ window  peeps  happiness

In  the  sea of my  emotions  why  so  many  anxieties

                                                                   ~Sudha Dixit

                                                                          Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *