ख़ुदमुख़्तार

तुम  रोकना  भी  चाहो  तो  ना  रोक  सकोगे

बहता  हुआ  दरिया  हूँ  मैं,  तालाब  नहीं  हूँ

अपनी  ही  रौशनी  है , नहीं   है  उधार  की

जलती   हुई   शमा  हूँ , माहताब   नहीं   हूँ

करना  ना दरकिनार मुझे वहम  समझ  कर

इक जिस्म मुजस्सिम हूँ, महज़ ख्वाब नहीं हूँ

क्यों  ढूंढते फिरते  हो मुझे दश्त में, हमदम

हूँ  एक  हक़ीक़त, मैं  कोई  ख्वाब  नहीं  हूँ

जो   चोट  करे   मेरी   खुद्दारी  पे   बारहा

ऐसे  किसी  सवाल  का  जवाब  नहीं  हूँ

Self-reliant

Howsoever  you  try, you cannot  stop  my  action

I’m  a  flowing   river,  not  a  pool  in  stagnation

I  have  my  own  lustre  not  a  borrowed  one

I  am  a  burning  lamp, not  moon’s  reflection

Don’t  dismiss  me  as  a  figment  of  imagination

I’m  a  full  phsysique,  not  a  shallow  vision

Why  do  you  seek  me  in  the  desert, chum

I  am  a  real  oasis,  not   any    illusion

Those, which  invade  my  self – veneration

To  any  such  query  I  am  not  a  solution

                                                                 ~Sudha Dixit

                                                                        Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *