महरूमी

इस  रास्ते  पे  मेरे  सिवा  कोई  नहीं  है

ख्वाबों का क़ाफ़िला बहुत आगे निकल गया

वो  मोड़, दोराहे  पे  जिसे  छोड़ आये  थे

वो और किसी कारवाँ से जा के मिल गया

परछाइयाँ  तक  साथ  मेरा  दे नहीं  पाईं

घिरता अँधेरा जब मेरा सूरज निगल गया

अब  क्या करेगा कोई  यहॉँ आ के बेवजह

जो खुशगवार था कभी, मौसम बदल गया

ये किसने  उछाला है तेरी याद का पत्थर

आँखों में ऑंसुओं का समंदर मचल गया

Deprivation

There is no one on this path but me

Caravan of dreams has gone much ahead

The  turn  I  forsook  at  that  fork

Has, now, another  convoy  joined

Even shadows could not keep me company

When darkness had,my sun, consumed

No reason,now, for anyone to come here

Once the winsome mood of nature, changed

Who has flung the pebble of memory

Sea of tears in my eyes is turbulent

                                                         ~Sudha Dixit

                                                             Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *