एक निवेदन

हे भगवन्त

आप ही विश्व के निर्माता विधाता हैं

आपकी अनन्त महिमा तो

हम इन्सानो की समझ के बाहर है

नादानी में हम

 न ही केवल प्रश्न उठाते हैं आपकी लीला पर, बल्कि

उत्तर माँगने की जुर्रत भी करते हैं

 क्षमा करना हमे श्री दयावान, लेकिन

कष्ट,  दुःख और शोक से घिरा हुआ इन्सान तो

एक डूबती नैया का पथिक होता है

 असहाय,निराश, शक्तिहीन व घबराया हुआ

सहारे की खोज मे आ गिरता है चरणो में आपके

अंगणित सवालो के साथ

ये जानते हुए भी कि

जो जन्म लेता है उसकी मृत्यु तो अवश्य होती है

यही है प्रकृति का अटल नियम, लेकिन भगवन्त

आप ही तो हो हमारे उपचारक और जीवन दाता,  फिर

 ये मृत्यु क्यों छीन लेती है हमारे प्रियजनो को हमसे?

पूजा-पाठ करते नियमित तन-मन से हम, पर

 झिंझोड़ डालती है ये मौत

निचोड़ लेती है हमारी सर्व शक्ति व धैर्य

अब आप ही बताइये

कहाँ जाँए और करे क्या

ऐसे हालात में

जब जकड़ जाते हम

इस अकेलेपन और काली अमावस की रात में

जब हो जाते बेसमझ हम अचानक निर्बलता से

और डूबने लगते दुःख के मझधार में

ये ज़िन्दगी तब एक यातना बनकर रह जाती है

यादो के सहारे

आप के आश्रय मे फिर जीने की याचना  करते हैं हम

यापन के साथ

सब ठीक होने की आशा भी  रखते हैं हम

आप के सम्मुख तो हम एक तुच्छ याचक हैं

हाथ जोड़ कर,शीष झुकाए निवेदन करते हैं हम आप से

शाँती, धीरज व शक्ति का दान  प्रदान कीजिए हमे प्रभु ताकि

उभर सके हम इस तीव्र घोर पीड़ा से।

ॐ ईश्वराय नमः

A Request

Oh Lord

You are the great creator of this universe

Your ways are beyond human comprehension.

Innocently we not only question your ways but also

Have the audacity of expecting answers for them

Forgive us dear kind Lord because-

A person drowned in troubles, pain and bereavement

Is like a traveller in a sinking boat

 Helpless, sad, weak and scared

Groping for help and support he falls at your feet

With umpteen questions in spite of knowing that

Whoever is born has to die one day

As it’s the unchangeable  unavoidable law of Nature

But God, you are the giver of life then

Why does Death snatch away our loved ones from us?

Wholeheartedly we pray to you yet

Death gives a terrible jolt to us

Draining away all our strength and patience

Now you only tell us

Where do we go and what do we do in such circumstances

When we are tethered by loneliness and darkness all around

When weakness deprives us of all reasoning and understanding

When we are drowning in the deep currents of the sea of sorrow

Our life then becomes torturous

We have nothing left except memories

We therefore entreat you to let us live under your shelter

We also hope that

With the passage of time everything will be alright

Before you Oh Lord

We are just insignificant beggars

Standing in front of you with folded hands and bowed head

Requesting you to bestow the alms of

Peace, patience and courage to us so that

We can rise above the deep sorrow of bereavement.

Ohm Ishwarya Namaha.

                                                                  ~Anuradha  S. Bannore

                                                                 Vadodara, India

One Comment

  1. human sorrows and sufferings break one’s spirit but God does give strength to bear the pain and the loss of a loved one
    life is like the plot of a story it has a beginning, a middle and an end before the climax
    that is what life is all about
    bear the cross is the motto
    a beautiful poem
    keep posting more

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *