विरोधाभास

सब से ज़्यादा उसे शिकायत  है मुझसे

जिसने मेरे  लिए  कभी कुछ किया नहीं

जो मेरे जीने का मक़सद  बन जाये

ऐसा लम्हा मैने कोई जिया नहीं

डबडबाई आँखों का  शिक़वा है मुझसे

हँसने का मौक़ा तो उसने दिया नहीं

और अब तोहमत है अहसान – फ़रामोशी की

उसका दिया ज़हर जो मैने पिया नहीं

कितना तन्हा मुझको बना गया कोई

आज तलक ,देखो, जो मुझसे मिला नहीं

 Paradox

He has umpteen issues with me

Who hasn’t ever done anything  for me

Never had any such moment in life

Which may become a reason to  live, for me

Complains about my teary eyes but

Never gave opportunity to laugh, for me

Now accuses me of being ingrate

Coz  I didn’t drink the poison, brought for me

How utterly lonely he has made me,see,

The one, who, till  now, never came across me.

                                                                     ~Sudha Dixit

                                                                         Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *