मेरी कहानी

अब ये ज़मीं नहीं, ना मेरा आसमां  ही है

लगता  नहीं है  कोई मेरा हमनवां भी है

बादल उफ़क़ पे छा गए या शाम हो गयी

सूरज का नहीं दूर तक नाम-ओ- निशां भी है

कितने मुक़ाम रास्ते में आये, खो गए

बस आख़िरी पड़ाव तेरा आस्तां ही है

तुमने तो रास्ता बदल लिया सफ़र के बीच

यादों का  क़ाफ़िला हमारे दरमियां ही है

फिर और किस तरह से सुनाऊँ मैं अपना हाल

ये  ग़ज़ल   मेरी  दर्द  भरी  दास्ताँ  ही  है

     My Story

Neither earth nor sky is there for me

Doesn’t look there is any mate for me

Is horizon overcast or It’s the nightfall,

Far beyond there’s no sign of sun for me

Many stops, on the way, turned up and got lost,

Last resort is only your threshold, for me

Mid – journey you just altered your route

Caravan of memories is now between you and me

How else do I relate my state of being

  This verse is the painful narrative of me

                                                       ~Sudha Dixit

                                                            Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *