मजबूरी

चेहरे पे मेरे लिख गए कितनी  कहानियाँ

क़दमों  के  निशां वक़्त ने  छोड़े  हैं  तरह

बादल भी बरसता है तो भीतर मेरे दिल पर

आँखों से एक बूँद भी छलकाऊँ किस तरह

पलकों में  फिर समेट लिया हमने  समंदर

कुछ लोग बिन आँसू के भी रोते हैं इस तरह

मुरझा गए हैं फूल, लो रुत भी बदल गयी

इस हाल में मैं ख्वाब सजाऊँ तो किस तरह

घायल   मेरा  बदन  नहीं  ये   रूह  हुई  है

चाहूँ भी तो ये ज़ख़्म  दिखाऊं  मैं किस तरह

      Translation

     Constraint

So many tales have been written over there

That’s how Time left  footprints  on my face

The  cloud  rains  only  inside  my  heart

How can eyes spill even a drop in this case

Again I’ve rolled up the ocean in my eyes

People, also, cry thus hiding tears sans trace

The flowers have wilted, time has changed

How  do I furnish  dreams in  such case

It’s not my form but the soul that is hurt, how

Then display wounds even if I’m willing to place

                                                                  ~Sudha Dixit

                                                                      Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *