कुछ यूँ हुआ

ऑंखें  ना सरे आम कहीं भीगने लगें

वो दर्द का  बादल मेरे भीतर सिमट गया

चुप थी ज़ुबान, बोल उठीं दिल की धड़कने

उसका ख़याल जब मेरे दिल से लिपट गया

कुछ फ़र्क़ नहीं अब, कि वो आये या ना आये

रुत बीत गयी, प्यार का मौसम बदल गया

खुशबू  की तरह झूम कर  महका गया मुझे

फिर तेज़ हवाओं सा वो जाने किधर गया

एक चाह थी कुछ कर दिखाएँ ज़िंदगी में हम

लेकिन,खुदारा वक़्त वो कब का निकल गया

  It So Happened

Eyes may not become teary, publicly

The cloud of pain got contained inside me

I was speechless, the heart beats got eloquent

Whenever  the thought of you enwrapped me

Makes no difference now, if he comes or not

Spring is gone and love – spell, no more beside me

Wafted in as scent and made me redolent

Then went away like whirl – wind somewhere past me

Aspired to become something in this life

But, God, that time has long bypassed me

                                                         ~Sudha Dixit

                                                               Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *