समय ही तो नहीं है मेरे पास

फूलों  से भर गयी मेरी अमराई है

नशे में चूर महकी सी हवा बौराई है

समां ये प्यार का करता है मेरा मन उदास

समय ही जो नहीं है मेरे पास

ये खुशबू  साथ ले आती है उसी शाम की याद

जो ज़िंदगी के कहकहों को कर गयी फरियाद

कहा था तुमने कि कुछ वक़्त  चाहिए हमदम

ज़रा सा सब्र ,ज़रा इन्तज़ार बस  जानम

मगर देखो ये सहरा और ये प्यास

समय ही तो  नहीं  है मेरे पास

वो  एक शाम मेरी ज़िंदगी बदल जाती

एक लम्हे के लिए सुबह भी मचल जाती

वो  चंद  पल ही मेरे प्यार की क़िस्मत बदलने वाले थे

मेरी तारीकियों में जैसे एक शमा जलाने वाले थे

तुम्हारे आगे सारी   उम्र पड़ी  है जानाँ

मेरे  लिए तो  यही एक घड़ी  है  जानाँ

क्या तुम्हे है ज़रा भी यह आभास

समय ही तो नहीं है मेरे पास

इर्द गिर्द सिर्फ एक  दश्त सी तन्हाई है

खूबसूरत सी तेरी यादों की रानाई है

देर से कितनी मुंतज़िर है हयात , बारहा

मौत के क़दमों की आहट  आई है

तो कैसी आरज़ू, हसरत, तमन्ना, कैसी आस

समय  ही तो  नहीं है मेरे पास

किसने रोकी है मौजों की रवानी

मुक़म्मल  कब हुई कोई कहानी

हमारी भी अधूरी दास्ताँ है

ना कोई दर ना कोई आस्ताँ है

जहाँ जाकर सुक़ून  मिल जाये

दिल से काँटा ज़रा निकल जाये

अब तो जीना है इस चुभन के साथ

अपने उजड़े हुए चमन के साथ

पर तुम्हे कौन दिलाये  भारी  ये  अहसास

कि समय ही तो नहीं है मेरे पास

Translation

It’s Time that I don’t have

My Mango trees are flowering

Inebriated , fragrant  breeze has gone  mad,

The  love  season  is  making  me  sad

Because it’s  Time  I  don’t  have .

The aroma  brings along memory of that Eve

That  turned  my  laughter  into   grief

You  said  that  sometime  you  need  mate

A bit of patience  &  a  little  wait  indeed  mate

But  look  at the  desert  first

And  look  at  my  thirst

 Understand  !

It’s  Time  I  don’t  have.

That  one  evening  could’ve  changed   my   entity

For  a  moment  might’ve  made  dawn  a  reality

Those  few  seconds  were  about  to  alter  my fate

Lit a  lamp  to  my  darkness   abate

You  have  a  whole  life time  ahead ,Dear

I’ve  only  a  few  minutes  to  tread , Dear

Do  you  ,even, an  idea  have

That  it’s  Time  I  don’t  have

There’s  a  barrenness  aground

With  beauty  of your  memories  around

For    long  time  life  has  waited

And  heard  Death’s  footsteps’   sound

So, why  any  desire, longing, wish &  crave,

For  it’s  Time  that  I  don’t  have

Who  could  restrain  flow  of river

Which  story  got  completed  ever

Ours’, too. Is  an  unfinished  episode

There’s  no  doorstep  and  no  abode

Where  we  may   get  relief

Remove the  thorn  of  grief

I  have  to  live  with  this  pain

My  wasted  garden  maintain

But , who  can  make  you  realize grave

 That  it’s  Time  I  don’t  have

                                                           ~ Sudha Dixit

                                                                Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *