उदासी

ये  ख़ुनक भरी हवा और

ये चांदनी का सैलाब

मेरे मन के सूनेपन को

भर   नहीं   पाता

हादसों और  तल्ख़ियों से पुख्ता

मेरे   मन   का   बाँध

तेरी बेरुख़ी  से अब

बिखर  नहीं  पाता

कौन रोकेगा ऐसे दर्द

के दरिये का बहाव

जिसके आगे नसीहतों का

पर्वत ठहर नहीं पाता

ये क्या मुक़ाम है

जहाँ   दिल   को

ख्वाहिश – ए – ज़ीस्त नहीं

और   मर  नहीं  पाता

Translation

Melancholy

The nippy breeze and

Deluge of moonlight,

Is unable to fill up

The vacuum in my heart.

Toughened by mishaps & virulence

The dam of my feelings

Does not crumble

By your apathy

Who can stop

The stream of pain

Which, even a mount of

Sermon ,cannot  restrain

What  region  is   this

Where  my  heart

Has  no  wish  to  live

Yet  is  unable  to  depart

                                       ~Sudha Dixit

                                        Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *