Poetry

सबा

आज भी तेरी महक़ ले के चली आती  है

कभी खिड़की, कभी दरवाज़ा खटखटाती है

कभी तेज़ी से गुज़रती है बजाती सीटी

मेरी दुश्मन है सबा, किस क़दर सताती है

मैं तुझे भूलना चाहूँ भी तो ना भूल सकूँ

तेरे घर से तेरा अहसास लिए आती है

तूने जो गीत मुहब्बत के सुनाये थे मुझे

मेरी तन्हाइयों में आ के गुनगुनाती है

 

क्या हुआ तुमको, बहुत दिन से क्यों नहीं आये

ऐसे बेकार के सवाल पूछे जाती है

दर्द की बुझती हुई आग को हवा देकर

मेरी तारीकियों में रौशनी जगाती है

THE   BREEZE

Even today it carries your fragrance

And knocks at my door and window

Sometimes it blows past –whistling

Teasing me like an antagonist

I can’t forget you howsoever I try

As the breeze brings your aura with it

It hums, in my solitude,the

Love songs,you sang for me

It asks useless questions like

What happened,long time no see

It blows and ignites the flame of agony

Thus lightens the darkness around me

                                                                                       ~Sudha Dixit

                                                                                          Bangalore, India

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*