उदास  मंज़र

दूर तक उड़ती हुई धूल नज़र आती है

क्या कोई कारवां गुज़रा मेरे वीराने से

पी के कुछ और न बढ़ जाये  तिश्नगी दिल की

अश्क़ छलके  मेरी तक़दीर के पैमाने से

अजनबी भीड़ ने बरसाए जब पत्थर मुझ पर

मुझको चेहरे नज़र आये हैं कुछ पहचाने से

हमने घबरा के तसव्वुर का है थामा दामन

आप जब भी नज़र आये हमें बेगाने से

आईना देख कर इतनी तो तसल्ली पाई

और भी लोग हैं मेरी तरह दीवाने से

फिर किसी आरज़ू की लाश उठी लगती है

लोग चुपचाप गए हैं मेरे काशाने से

भूलने वाले बहारों की तो सोची होती

कितना मातम है फ़िज़ाँ में तेरे ना आने से

 The Gloom

there is dust  all the way

Did any caravan pass by my wilderness

It might enhance the thirst in my heart

For Destiny has endowed me with tears only

When a bunch of strangers stoned m

I recognized  some known faces in it

Whenever you behaved like a stranger

I took solace in fantasy

whenever I looked into the mirror

It was heartening to find others as mad as me

There seems to be a funeral of some desire

People have passed  solemnly by my abode

Before forgetting me,you should have thought of Spring

See the grief around,just because you are missing

                                                                                          ~Sudha Dixit

                                                                                          Bangalore, India

2 Comments

  1. Thanks “R’ Please tell me your full name , if you don’t mind.

    Sudha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *