एक वीरानी सी वीरानी है

 इस अँधेरे बंद घर में जी नही लगता मेरा

अब क़फ़स की बंदिशों में जी नही लगता मेरा

क्यों मिला हम को मिला मकाँ वीराने में यारब बता

चीखती इस ख़ामुशी में जी नही लगता मेरा

ना कोई मंज़िल नारा हें और न कोई हसरतें

बेसबब इस ज़िंदगी में जी नही लगता मेरा

कब बहार आयी, गयी कब, कुछ पता हम को नही

इस मुजस्सिम तीरगी में जी नही लगता मेरा

हमने पाने से ही पहले खो दिया तुझको नसीब

अब कहाँ जाऊं, कहीं भी जी नही लगता मेरा

Translation

I am not at ease in this dark,claustrophobic home

I don’t like to be in a cage-like  syndrome

Tell me O Lord,why do I have to live in a lonely jungle dense

I am not comfortable here,in this screaming  silence

There is no goal,no road,and no heart-felt  craving

I have no wish to continue this aimless living

No idea when Spring came and went away

For me this total darkness doesn’t hold a sway

I have lost you ,my Destiny,even before I could find you here

Where to go now, there is no happiness anywhere

                                                                                 ~Sudha Dixit

                                                                                Bangalore, India

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *